कमर दर्द के कारण

0
91

                                                                                 कमर दर्द के कारण

कमर दर्द एक लक्षण मात्र है | स्वयं कोई रोग नहीं है| निष्क्रिय आराममय जीवन के कारण कमर के स्नायु कमजोर पड़ जाते हैं| जिससे कमर दर्द होता है|स्नायुओं अकड़न से कमर दर्द हो जाता है |अचानक उत्पन्न अकड़न से तेज दर्द होता है| मांसपेशियों में अकड़न होती है| कमर के स्नायु लगातार संकुचन स्नायुओं की आंतरिक केसवाहिनियों को बंद कर देता है| इससे स्नायु को आवश्यक पोषण नहीं मिलता और स्नायु में इकट्ठा कचरा विष को बाहर निकालने का काम रुक जाता है| विष के जमाव तथा पोषण नहीं होने से अकड़न की स्थिति में रहे हुए| स्नायु दर्द करते हैं| यदि कमर के दर्द यदि कमर इतना ताकतवर है| और कूल्हे की हड्डियों को सदा संतुलित अवस्था में रखा जाए तो दर्द ही उत्पन्न नहीं होता| कमर में पेट के ऑपरेशन के बाद कमर दर्द हो सकता है|

           आयु विकृति परिवर्तन
आयु बढ़ने के साथ-साथ कमर की हड्डियां                                              घिसने ,विकृत होने लगती हैं| कभी-कभी कोई जोड टूट भी जातें है|

                                 चक्कर खिसकना
कभी-कभी भारी शारीरिक श्रम करने से कमर की हड्डियों का कोई चक्कर अपनी जगह से बाहर आ जाता है| जिससे कमर दर्द साइटिका का दर्द होने लगता है| एक स्थिति में लंबे समय तक काम करने से कमर की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं एक स्थिति में नहीं रहकर थोड़ी थोड़ी देर बाद स्थिति बदले बैठे हो तो कुछ देर के लिए खड़े हो जाएं |और खड़े हो तो कुछ देर के लिए लेट जाएं या बैठ जाएं इससे कमर दर्द होने से बचाव हो सकता है| गलत ढंग से चीजें उठाना| यदि नीचे से कोई चीज उठा नहीं हो| तो आगे आगे घुटने मोड़कर झुके और अपनी शक्ति के अनुसार वजनी चीज उठाएं |तनाव मानसिक तनाव से कमर के नीचे के भाग में दर्द हो जाता है| और मानसिक तनाव क्रोध से सांस रुक जाता है |रीड की मांसपेशियों में तनाव आ जाता है| चिंता तनाव के कारण गर्दन के नीचे या पीठ के मध्य भाग में दर्द होने लगता है| कभी-कभी कमर दर्द इतना तेज और असहनीय होता है| कि रोगी दर्द से तड़पने लगता है उसका हिलना डुलना बंद हो जाता है| ऐसा दर्द भी मानसिक कारणों से होता है |मानसिक सोच बदलने से ऐसे दर्द में बहुत लाभ मिलता है| चिकित्सक को इन कारणों को दूर करने की सलाह देनी चाहिए विशेषज्ञों का मानना है कि कई बार पीठ का दर्द भावनात्मक तनाव से मांसपेशियों के कड़ा होने के कारण भी हो जाता है| ऐसे में चिकित्सक रिलैक्सेशन एक्सरसाइज करने की सलाह देते हैं| आरामदायक मुद्रा में बैठकर आंखों को मूंद लें| अब गहरी सांस लें और 100 से 1 तक उल्टी गिनती गिने
मासिक धर्म-
किसी किसी महिला को मासिक धर्म के आसपास और मासिक धर्म के दिनों में कमर में दर्द होता है| जो दर्द जो बाद में ठीक होता है |गर्भाशय में गांठ के कारण भी कमर में दर्द हो जाता है |कमजोरी और विकृतियों के कारण कमर में दर्द हो जाता है| कमर दर्द के सही और वैज्ञानिक कारण अभी नहीं खोजे जा सके अनुमान है |कि अत्यधिक वजन अचानक लगा हुआ झटका दुर्घटना गिर जाना| अत्यधिक मानसिक तनाव गर्भावस्था आदि कारणों से कमर दर्द उत्पन्न हो सकता है| अधिकांश रूप से कमर दर्द के कारण दुर्बलता और स्नायु जोड़ों का भारी वजन उठाने की चीजों के कारण, धक्का देने लापरवाही से झुकने से जोड़ खुल जाते हैं| और कोई नस दब जाती है उसका स्थान सकरा होने से कमर में दर्द होता है |जो जीवन भर चलता है |

      गरिष्ठ चीज खाने से हो जाती है| पेट में घाव हो जाते हैं जो शराब जर्दा तंबाकू और तनाव से बढ़ते हैं| इनसे कमर के बीच में दर्द होता है |इसे दूर करने के लिए रीड की हड्डी में खिंचाव पैदा करने वाले व्यायाम नित्य करें|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here