Back pain कमर दर्द

0
97

                   कमर दर्द

जीवन में कभी ना कभी कमर दर्द प्राय: अधिकतर लोगों को हो जाता है |लेकिन अधिकांश रोगी इसे सहन करते हुए सामान्य जीवन व्यतीत करते हैं| आयु बढ़ने के साथ-साथ रोगी के शरीर में स्थित एक चपटी गोल आकृति जिसे डिस्क या गद्दी बोलते हैं| का पानी कम हो जाता है| जिससे कमर का लचीलापन घट जाता है| कमर दर्द के रोगियों में( disk) के आसपास की नसों पर दबाव पढ़ना आरंभ हो जाता है| इससे दो प्रकार के कष्ट हमारे शरीर के अंदर हो जाते हैं|

1-    जब डिस्क सारी नसों पर प्रभाव डालती है |तो रोगी को चलने के समय पैरों में जकड़न -अकड़न और दर्द होता है| यह      थोड़ी देर आराम करने से ठीक हो जाता है|

2-   जब डिस्क किसी एक नस को दबाती है| तो उस नस में दर्द होने लगता है|डिस्क के बाहरी हिस्से के स्नायु (LIGAMENTS) भी ढीले पड़ जाते हैं|रोगी ज्यादा देर तक चलने या खड़ा रहने में असमर्थ हो जाता है|

                         कमर दर्द के रोगों को कैसे पहचानें

कमर के रोगों को जानने के लिए फर्श या तख़त पर सीधे सोए और कमर के नीचे अपना हाथ डालें |यदि हाथ कमर के नीचे नहीं जाए तो समझ लें |आपको कमर से संबंधित कोई रोग है|  दर्द अधिकतर शरीर के नीचे भाग में होता है |कमर दर्द दिमाग के तनाव रीड के स्पाइना जैसी जन्मजात विकृतियों रीड में चोट,  कमर की मांसपेशियों की वजह से उम्र से जुड़ी बीमारियों और व्यायाम ना करने जैसी विकृतियों के कारण हो जाता है | |कमर दर्द कभी भी हो सकता है| लेकिन दिन चार्य में सोने उठने बैठने तथा लेटने के तौर तरीकों में बदलाव |इस दर्द का मुख्य कारण है |स्कूल में पढ़ने वाले छोटे बच्चों को भारी बस्तों के कारण पीठ एवं कमर दर्द हो जाता है

        मानसिक तनाव लगातार झुक कर बैठना काम करना नित्य देर तक स्कूटर मोटरसाइकिल चलाना तथा देर तक कंप्यूटर टाइपराइटर  पर काम करने वाले लोगों को कमर दर्द ज्यादा होता है ऊंची एड़ी के जूते चप्पल पहनने वाली स्त्रियां कमर दर्द से अधिक दुखी होती हैं |ऐसे जूते चप्पल पहनने से शरीर का संतुलन बिगड़ जाता है जिससे कमर में खिंचाव हो जाता है

मानसिक तनाव से कमर में अकड़न और लहर सी उठती है| और कमर दर्द होने लगता है| रीड से आवश्यकता से अधिक काम लेने से आवश्यकता से अधिक कसरत करने जैसे दौड़ना,( एरोबिक्स) आदि खड़े रहने की अपेक्षा बैठ कर काम करने से कमर पर अधिक दबाव पड़ता है|

छिंखने, खास ने से भी डिस्क पर दबाव पड़ता है |पीठ के नीचे की ओर होने वाला दर्द जो वजन उठाने या भारी मेहनत करने के अगले दिन ज्यादा हो मौच का लक्षण हो सकता है| पीठ के नीचे का दर्द पीठ के नीचे का तेज दर्द जो अगली बार वजन उठाते ही अचानक एक दम हो  तो स्लिप| डिस्क में परेशानी हो सकती  है|

विशेष रूप से जब इसके एक पांव में दर्द होने लगे या सुन हो जाए तो इसका कारण नस दब जाना हो सकता है |तो आप इन लक्षणों से समझ गए होंगे| कि हमें किस प्रकार की परेशानी हुई है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here