मोटापा घटाने का घरेलू उपाय Weigth loss ka gharelu ilaj

0
105
मोटापे के लिए बहुत ही लाभ कर है |यह उपयोग जो इस उपाय को करेगा |वह अपना वेट मेंटेन कर सकता है |इसके लिए हमें 125 ग्राम पानी उबालकर ठंडा कर लेना है| जब गुन गुना रह जाए| तब उसमें 15 ग्राम नींबू का रस आधा उत्तम कागजी नींबू निचोड़ कर और 15 ग्राम शहद मिलाकर शर्बत के समान गुड गुड करके पीने से मोटापा दूर होता है| शरीर में चाहे कितनी भी चर्बी बढ़ गई हो घटकर शरीर सुडौल बन जाता है| पेट के रोग दूर होकर जठराग्नि तेज बनी रहती है| प्रातः खाली पेट निरंतर 1 से 2 माह इसका उपयोग करने से मोटापे की परेशानी बिल्कुल ठीक हो जाती है| इसके साथ कुछ सहायक उपयोग उपचार करने से मोटापा घटाने में सहायता मिलती है|
                                                        सहायक उपचार
योगासन और कसरत क्रियाएं प्रातः करें तो लाभ द्रुत गति से होता है योग आसनों में उत्तानपादासन, पश्चिमोत्तानासन, भुजंगासन धनुरासन ,त्रिकोणासन, नौली क्रिया मोटापा कम करने में अत्यंत प्रभावशाली हैं|
                                                          विशेष
भोजन हल्का और दिन में 1 बार करें चोकर की रोटी खाना लाभदायक है| हरी सब्जियों का विशेष रूप से सेवन करें |साँय काल केवल फल ले| भोजन के साथ जल न ले| भोजन के 1 घंटे पश्चात थोड़ा जल लें| चाय कॉफी चर्बी बढ़ाने वाले और मीठे पदार्थों का सेवन यथासंभव कम कर दें |जहां शहद के साथ नींबू पानी के से मोटापा घटता है| वहां केवल नींबू पानी के सेवन से मोटापा बढ़ता भी है| बिना पैसे प्रभावशाली इलाज साथ में दोनों समय भोजन के पश्चात एक-एक चम्मच एक एक कप गर्म पानी पी लें| और जितना गर्म किया जाए उसे चाय की भांति छोटे-छोटे अथवा चम्मच की सहायता से धीरे-धीरे पीले चाहे| तो एकाध घूंट पानी भोजन के बीच में ले सकते हैं| इस प्रकार खाने के तुरंत बाद गर्म पानी के लगातार सेवन करने से मोटापा घटता शरीर संतुलित हो जाता है| परंतु गर्म पानी का प्रयोग लगातार 2 महीने से अधिक नहीं करना चाहिए| सर्दियों में इस प्रयोग को उचित परहेज के साथ आवश्यकता अनुसार 15 दिन से 2 माह तक करने से मोटापे के अतिरिक्त गैस ,कब्ज, कोलाइटिस ,आंतों की सूजन समूल नष्ट हो जाते हैं| गठिया तथा जोड़ों के दर्द और सूजन के लिए गर्म पानी का सेवन लाभप्रद है| इससे अधिक मात्रा में शरीर से यूरिक एसिड और विशेले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं |अधिक गैस पैदा होना बंद हो जाता है| अपचन और पेट फूलना बंद होता है |कब्ज नहीं रहती पाखाना खुलकर आता है| पेट में कीड़ों की उत्पत्ति नहीं होती है| और आंतों की कमजोरी, पेट फूलना, सूजन आदि बीमारियां ठीक हो जाती हैं|आँतों को शक्ति प्रदान होती है| औरतों की मासिक धर्म की अनियमितता दूर होती है| आंखों के नीचे काले घेरे और चेहरे का रंग निखरता है| और शरीर को सुंदर बनाती है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here