How to natural treatment for(मुंह के छाले) blister of mouth in hindi ?

0
66

परिचय

 मेरे प्यारे दोस्तों मुंह के भीतर जीभ से हलक तक ललाई होकर घाव या छाले पड़ जाते हैं| बहुत दर्द होता है|

कारण एवं लक्षण

पेट में दूषित जल एकत्रित हो जाने से यह रोग होता है सर्दी, वात व्याधि ,धूम्रपान आदि से भी मुंह में छाले पड़ जाते हैं|

  प्राकृतिक चिकित्सा

कुछ दिनों तक उपवास करें| रसाहार के साथ एनिमा लेकर पेट साफ करें|पेट को साफ रख ने से ही इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है| फिर दिन में दो बार कटि स्नान और रात भर के लिए कमर की सूती-ऊनी पट्टी लगानी चाहिए|पेडू पर ऊनी या  गीली मिट्टी की पट्टी लगानी चाहिए| प्रतिदिन पैरों को गर्म स्नान भी देना चाहिए मुंह के भीतर और बाहर सिर पर ठंडे पानी से भीगी तोलिया रखकर दिन में दो बार भाप लेकर कपड़े की ठंडी पट्टी 20-20 मिनट के लिए बदल बदल कर ले और फिर पूरे शरीर पर घर्षण स्नान और पूरी मात्रा में जलपान करते रहे| बिल्कुल सादा और शीघ्र पचने वाला भोजन लेना  चाहिए |

गहरी नीली +पीली+ आसमानी+ हरी बोतल का सूर्यतप्त जल बराबर -बराबर  मिलाकर 50 ग्राम की मात्रा में दिन में 6 बार लेना चाहिए तथा करेले के रस में शहद मिलाकर चाटन भी बहुत लाभदायक है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here