How to naturopathic treatment for piles disease in hindi and English

0
45

 

बवासीर का परिचय-


इसकी आरम्भिक अवस्था में गुदा द्वार कि भीतरी और बाहरी नसों में खुजली और जलन मालूम होती है। उस जगह बिना मुंह के फोडे की सी छोटी -छोटी गाठें निकली होती है।जो बढकर बडी हो जाती है। जिनको मस्से या बादी बवासीर के नाम से पहचान ते हैं। ये जब फट जाती है। तो उनमे रक्त निकलने का लगता है ।तो खूनी बवासीर कहलाती है।


बवासीर का कारण व लक्षण


यह कोई बीमारी नहीं है, रोग का लक्षण है। यकृत की खराबी, उदर – विकार, रक्त – विकार और कब्ज के कारण आतों में मल के सड़ने से पेट की गर्मी बढ़ जाती है। जिससे आंतों की झिल्ली कमजोर हो जाती है। गुदा प्रदेश में भारीपन का अनुभव होता है। मलत्याग में कठिनाई कष्ठ होता है। और गुदा के पास की नसों में दूषित रक्त इकट्ठाहो ​​जाता है।


बवासीर कि प्राकृतिक चिकित्सा-


बवासीर का सटीक इलाज पहले कब्ज को दूर करें और फिर उसे कभी न होने दें। बवासीर के रोगी की कमजोर आंतों को मजबूत करने के उपचार लेना चाहिए । सुबह – शाम को ठंडे पानी में भीगी मिट्टी में नींबू निचोड़ कर कटि प्रदेश व गुप्मेन्द्रिय मार्गों पर लगाकर लंगोट बांधकर टहलें ।



प्रतिदिन सुबह – शाम 10 – 15 मिनट मस्सों पर भाप देने के बाद कटि स्नान लें। प्रतिदिन दो बार गुनगुने नींबू – पानी का, उसके बाद ठंडे पानी का एनिमा लेना चाहिए। रात को सोते समय शक्तिदायक एनिमा लें।इससे बडी आंत के पर्दे को ठंडक पहुंचेगी और मल ढीला पड़ जाएगा। गर्म – ठडा कटि स्नान लेकर घर्षन स्नान करें।


तीन से पांच दिनों तक नींबू – पानी पर उपवास कर आहार में रसदार फलों का रस और तरकारी का सूप अधिक मात्रा में लें।
उपचारों से जब मल ढीला आने लगे तो रोगी के आहार में गेहूं का दलिया चोक सहित आटे की रोटी, पलक, बथुआ, तोरई, परवल, मूली, पत्तागोभी, हरा पपीता आदि हरी सब्जियां, पका पपीता, पका बेल, पका केला, खरबूजा, सेब, नाशपाती, दूध, किशमिश, मुनक्का, आलू बुखारा, अंजीर और पका – कच्चा नारियल आदि।
दालें और उत्तेजक खाद्य पदार्थ बिल्कुल त्याग दें। कुछ दिनों तक प्रत्येक भोजन के साथ 2 ग्राम ईसबगोल की भूसी 8 घंटे तक पानी में भिगो कर उपयोग करना चाहिए। खूनी बसीर में हरी और वादी बवासरी में नारंगी रंग की बोतल के सूर्य तप्त जल 50 ग्राम की – कि चार खुराक ले।


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here