बवासीर होने के कारण व घरेलु इलाज

0
124
बवासीर

बवासीर यानी पाइल्स की यह बहुत ही बड़ी बीमारी हो चुकी है |और ये सब हो रही है हमारे खान -पान के कारण से इस में बहुत ही असहनीय दर्द होता है |ये दो प्रकार की होती है |यह खुनी व बादी दो प्रकार की बवासीर होती है |अब बात करें खुनी बवासीर की तो उसमें गुदा के अंदर से छोटे -छोटे मॉस के उभार निकल आते है | ये कई बार बड़ी आंत के अंदर के हिस्से के अंदर होते है |कई बार ये ये गुदा के बाहर की और होते है |जब इंशान पखाना जाता है |तो मल के खुसक होने के कारण से गुदा में मल को बाहर करने के लिए बहुत ही जोर लगाना पड़ता हैं |जिसके कारण से गुदा के वो मसल के उभार मल के कारण से फट जाते है |जिसके कारण से उसमे से खून आने लगता है |इसे खुनी बवासीर के नाम से जाना जाता है | अब बात करतें हैं

बादी बवासीर- इस तरह की बवासीर में पखाने से खून तो नहीं आता है लेकिन पखाना करते समय व बाद में खुजली होती है |रोगी गुदा को बहुत तेजी के साथ खुजलाता है जो की उसको बहत सर्मिन्दजी महसूस करता है |इस तरहे की बवासीर में ज्यादा तर होने के कारण जो रोगी की गुदा के अन्दर फंगल इन्फेक्शन होने के कारण होती है जो की सही होने में बहुत परेशानी देती है |

बवासीर को सही होने के लिए उपाय

1- त्रिफला का चूर्ण – बवासीर के रोगी को चाहिए की उसको आपने पेट को सही रखना चाहिए क्योंकि जिसको भी बवासीर की समस्या होती है उसको बहुत ज्यादा constipation यानि कब्ज रहती है |जिसकी बजह से उसको पखाना बहुत ही सख्त आता है जो की उसको गुदा की नसों को फाड़ देता है |इसकी लिए चाहिए की हमको बवासीर को सही करने के लिए त्रिफला के चूरन को रात को गर्म पानी के साथ रातको सोते समय 5-से 8 ग्राम की मात्रा में लेना चाहिए |जिसकी सहारे आपकी कब्ज की समस्या सही हो जायेगी |

2-कैस्टर आयल – अगर आप बवासीर से परेसान है तो आपको कास्टर का सेवन भी बहुत ही फायदे मंद है |क्योंकि कास्टर आयल के अन्दर एंटी -इन्फ्लेमेंट्री ,एंटी फिंगल ,एंटी ओक्सिडेंट गुण पाये जाते है |जो की बवासीर को सही करने के लिए बहुत सी फायदेमेंद है |

3-नारियाल का तेल – नारियाल के तेल को भी अगर मस्सों पर लगा कर थोडा मसाज करते है |तो गुदा के अन्दर जो तेल मस्सों पर लग ने से मस्सों के अन्दर बहुत ही मुलायम कर देता है जो की पखाना करते समय दर्द का बहुत ही काम दर्द का अनुभाव होता है |जो मरीज को बहुत ही रहत की बात है |ऐसा करने से हम कुछ रहत महसूस करते है |

4-पानी का अधिक सेवन करें -बवासीर के मरीज को पानी का अधिक सावन करना चाहिए |लेकिन उसको बहुत ही ध्यान रखना चाहिए की जब भी खाना खाए तो खाने के एक घंटे पहले व एक घंटे बाद में पानी पीना चाहिए |इससे CONSTIPATION की समस्या बहुत हद तक ठीक हो जायेगी|

5-नारियल की राख का सेवन – जिनको भी खुनी बवासीर की समस्या है उनको नारियल की जटा को जला कर उसकी राख को 2 से 3 ग्राम की मात्रा में छाय में डालकर दिन में दो बार सेवन करना चाहिए |इसकी एक ही खुराक के लेने से खून आने खून बंद हो जाते है |

6- केला और कपूर -खुनी बवासीर के लिए हम को चाहिए की खाने वाला कपूर की एक ग्राम की डाली लेकर के उसे केला के अन्दर डालकर के दिन में दो बार खाने से ही खून आना बंद हो जाता है |लेकिन इसका सेवन तीन बार से ज्यादा नहीं करना चाहिए |


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here